What is the full form of IAS?

IAS का फुल फॉर्म क्या होता है ?

आईएएस का फुल फॉर्म इंडियन एडमिनिस्ट्रेटर सर्विस (Indian Administrative Service) होता है | हिंदी में इसका फुल फॉर्म भारतीय प्रशासनिक सेवा’ होता है|

आईएएस ( IAS ) ऑफिसर कैसे बनते है पूरी जानकारी हिंदी में » THE DRIVE APP

IAS बनने की भूमिका

भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस)अधिकारी बनने के लिए,आपको एक व्यवस्थित और समर्पित दृष्टिकोण अपनाने की आवश्यकता है। हम आपको आईएएस भूमिका में करियर बनाने के चरण आपके समक्ष प्रस्तुत कर रहा हूँ जो निम्नवत है।

शैक्षिक योग्यता: सर्वप्रथम आवश्यकता किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक की डिग्री होना अनिवार्य है , जो किसी भी श्रेणी से उत्तीर्ण हो।
वो आईएएस की परीक्षा में बैठने का पात्र माना जायेगा।

सिविल सेवा परीक्षा (सीएसई): संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) प्रतिवर्ष सिविल सेवा परीक्षा आयोजित करता है।आपको इस प्रतियोगी परीक्षा में शामिल होना होता है,जिसमें तीन चरण होते हैं,जो निम्नवत है।
1-प्रारंभिक परीक्षा (Preliminary Exam)
2-मुख्य परीक्षा (Main Exam)
3-साक्षात्कार परीक्षा (Interview Test)

प्रारंभिक परीक्षा: पहला चरण प्रारंभिक परीक्षा का होता होता है,जिसमें दो वस्तुनिष्ठ प्रकार (objective type) के पेपर होते हैं। जिसमे प्रथम पाली में सामान्य अध्ययन प्रश्नपत्र -1और द्वितीय पाली में सामान्य अध्ययन प्रश्नपत्र -2 होता है।

मुख्य परीक्षा: मुख्य परीक्षा में कुल 9 पेपर होते हैं। जिसमे निबंध लेखन, सामान्य अध्ययन और आपकी पसंद का एक वैकल्पिक विषय जैसे विभिन्न विषय शामिल होते है।

वैकल्पिक विषय: आपको मुख्य परीक्षा के लिए एक वैकल्पिक विषय चुनना होता है ,यह यूपीएससी द्वारा प्रदान की गई सूची में से कोई भी एक विषय को चुना जा सकता है।

साक्षात्कार: यदि आप मुख्य परीक्षा उत्तीर्ण कर लेते हैं, तो आपको व्यक्तिगत साक्षात्कार के लिए बुलाया जाता है।साक्षात्कार पैनल आपके व्यक्तित्व,संचार कौशल और ज्ञान का आकलन करता है।

प्रशिक्षण: साक्षात्कार उत्तीर्ण करने के बाद,आप मसूरी में लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय प्रशासन अकादमी में एक व्यापक प्रशिक्षण कार्यक्रम से गुजरेंगे। यह प्रशिक्षण आपको आईएएस भूमिका की चुनौतियों के लिए तैयार करता है।

सेवाओं का आवंटन: एक बार जब आप प्रशिक्षण पूरा कर लेते हैं, तो आपको आपकी रैंक और रिक्तियों की उपलब्धता के आधार पर आईएएस सहित विभिन्न प्रशासनिक सेवाओं के लिए आवंटित किया जाएगा।

नौकरी पर प्रशिक्षण: एक आईएएस अधिकारी के रूप में, आपको विभिन्न प्रशासनिक स्तरों पर नौकरी पर प्रशिक्षण प्राप्त होगा। यह प्रशिक्षण आपको सरकार की कार्यप्रणाली को समझने में मदद करता है और आपको आवश्यक कौशल से लैस करता है।

कैरियर में प्रगति: आईएएस एक गतिशील और पुरस्कृत कैरियर मार्ग प्रदान करता है। अनुभव और प्रदर्शन के साथ, आप रैंकों में आगे बढ़ सकते हैं और सरकार में जिला कलेक्टर, सचिव और यहां तक कि मुख्य सचिव जैसे प्रतिष्ठित पदों पर आसीन हो सकते हैं।

आईएएस अधिकारी बनने के लिए समर्पण, कड़ी मेहनत, दृढ़ता आत्मविश्वास की आवश्यकता होती है। यह एक ऐसी भूमिका है जिसमें राष्ट्र की सेवा करना और प्रभावी शासन और नीति कार्यान्वयन के माध्यम से समाज पर सकारात्मक प्रभाव डालना शामिल है।

आईएएस प्रारंभिक परीक्षा की तैयारी कैसे करे

प्रारंभिक परीक्षा की तैयारी करना एक चुनौतीपूर्ण कार्य हो सकता है, लेकिन असंभव नहीं यदि उचित योजना और समर्पण के साथ स्टडी पर फोकस रहे तो आपकी सफलता की संभावना ज्यादा होगी । प्रभावी ढंग से तैयारी करने में आपकी सहायता के लिए यहां कुछ प्रमुख चरण प्रतुस्त हैं।

परीक्षा प्रारूप को समझें: अनुभागों की संख्या, समय सीमा और प्रश्नों के प्रकार सहित परीक्षा प्रारूप से खुद को परिचित करके शुरुआत करें। इससे आपको स्पष्ट पता चल जाएगा कि आपको क्या उम्मीद करनी चाहिए ,और उसी के अनुसार अपनी तैयारी मेहनत से करे। सफलता अवस्य मिलेगी।

एक अध्ययन योजना बनाएं: एक अध्ययन योजना विकसित करें जो आपके दैनिक या साप्ताहिक अध्ययन कार्यक्रम की रूपरेखा तैयार करे। पाठ्यक्रम को छोटे विषयों में विभाजित करें और प्रत्येक के लिए विशिष्ट समय स्लॉट आवंटित करें। यथार्थवादी लक्ष्य निर्धारित करना और पुनरीक्षण और अभ्यास के लिए समय सुनिश्चित करना सुनिश्चित करें।

अध्ययन सामग्री इकट्ठा करें: पाठ्यपुस्तकें, संदर्भ पुस्तकें, ऑनलाइन संसाधन और पिछले वर्षों के प्रश्न पत्र सहित सभी आवश्यक अध्ययन सामग्री इकट्ठा करें। यह सुनिश्चित करने के लिए विश्वसनीय स्रोतों का उपयोग करें कि आपके पास सटीक और अद्यतन जानकारी तक पहुंच है।

मुख्य विषयों की पहचान करें: पाठ्यक्रम का अध्ययन करें और उन प्रमुख विषयों की पहचान करें जिनका अधिक महत्व है या जो परीक्षा में अक्सर प्रश्न पूछे जाते हैं। पढ़ाई के दौरान इन विषयों को प्राथमिकता दें, लेकिन यह भी सुनिश्चित करें कि आपको सभी विषयों की बुनियादी समझ हो।

नोट्स बनाएं: पढ़ाई करते समय संक्षिप्त और व्यवस्थित नोट्स लें। मुख्य बिंदुओं, सूत्रों और मुख्य अवधारणाओं को अपने शब्दों में सारांशित करें। यह न केवल आपको सामग्री को बेहतर ढंग से समझने में मदद करेगा बल्कि पुनरीक्षण के दौरान त्वरित संदर्भ के रूप में भी काम करेगा।

नियमित अभ्यास करें: परीक्षा की तैयारी के लिए अभ्यास आवश्यक है। परीक्षा पैटर्न से परिचित होने और अपने समय प्रबंधन कौशल में सुधार करने के लिए पिछले 10 वर्षों के प्रश्न पत्रों और नमूना पत्रों को हल करें। इसके अतिरिक्त, अपनी प्रगति का आकलन करने और उन क्षेत्रों की पहचान करने के लिए मॉक टेस्ट या ऑनलाइन अभ्यास प्लेटफ़ॉर्म में शामिल होने पर विचार करें जिनमें और सुधार की आवश्यकता है।

स्पष्टीकरण मांगें: यदि आपके सामने कोई संदेह या अवधारणा आती है जिसे समझना मुश्किल है, तो स्पष्टीकरण मांगने में संकोच न करें। अपने प्रश्नों का समाधान पाने के लिए अपने शिक्षकों, सहपाठियों या ऑनलाइन मंचों से परामर्श लें। विषयों को आँख मूंदकर याद करने के बजाय उनकी स्पष्ट समझ होना महत्वपूर्ण है।

समय प्रबंधन: प्रारंभिक परीक्षाओं में आमतौर पर समय की कमी होती है, इसलिए अपनी तैयारी के दौरान समय प्रबंधन का अभ्यास करें। अपनी गति और सटीकता में सुधार के लिए अभ्यास पत्रों को हल करते समय परीक्षा जैसी स्थितियों का अनुकरण करें। इसके अतिरिक्त, प्रत्येक अनुभाग को उसके महत्व और कठिनाई स्तर के आधार पर समय आवंटित करना सीखें।

स्वस्थ जीवनशैली बनाए रखें: परीक्षा की तैयारी के दौरान अपने शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य का ध्यान रखना भी उतना ही महत्वपूर्ण है। जितना परीक्षा में प्रश्न पत्र का और सुनिश्चित करें कि आप पर्याप्त नींद लें, संतुलित आहार लें और नियमित व्यायाम करें। अपने दिमाग को तरोताजा करने और थकान से बचने के लिए अध्ययन सत्र के दौरान छोटे-छोटे ब्रेक लें।

पुनरीक्षण: नियमित पुनरीक्षण के लिए समर्पित समय निर्धारित करें। अपने नोट्स, प्रैक्टिस पेपर्स और महत्वपूर्ण फॉर्मूलों की बार-बार समीक्षा करें। यह आपके सीखने को सुदृढ़ करेगा और आपको जानकारी को अधिक प्रभावी ढंग से बनाए रखने में मदद करेगा।

याद रखें, प्रारंभिक परीक्षा की तैयारी के लिए लगातार प्रयास और अनुशासन की आवश्यकता होती है। केंद्रित रहें, प्रेरित रहें और अपनी क्षमताओं पर विश्वास रखें। आपको कामयाबी अवश्य मिलेगी।

 

Leave a Comment